हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है गणगौर का पर्व

 

भीलवाड़ा (प्रहलाद तेली) जिले भर में आज गणगौर का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है।  इसको लेकर भीलवाड़ा शहर में गणगौर और ईसर प्रतिमाओं को सजाकर बैंड बाजों के साथ औरते नाचती गाती हुई दिखाई दे रही है। वहीं सुबह के समय युवतियां और महिलाएं गणगौर के गीत गा रही हैं और मंदिरों में गणगौर के पर्व पर शिव—पार्वती के स्वरूप ईसर और गणगौर की पूजा करती दिखाई दे रही है।
रामधाम के पास तम्बोली वाटिका सामूहिक रूप से कुमरावत तम्बोली समाज की व सांगानेरी गेट स्थित रघुनाथद्वारा में महिलाओं ने गणगौर की पूजा अर्चना की।

कुमावत तंबोली समाज की महिलाओं द्वारा तंबोली वाटिका में फाग उत्सव मनाया वह सामूहिक गणगौर उद्यापन भी कर रही है।। अलका सोनिया ने महिलाओं को तिलक लगा कर स्वागत किया।  महिलाओं ने राधा कृष्ण संग फूलों व गुलाल के साथ   होली  खेली। मंजू तंबोली राजकुमारी ने सुंदर-सुंदर भजनों की प्रस्तुति दी। रंग मत डाले रे सांवरिया, मैया मैया बोल मां सुन लेती है,मैं, तो सावरिया संग होली खेलुगी।  कार्यक्रम में सारिका मीना अंतिमा चेतना रेनू राधा पिंकी शकुंतला वंदना नीमा ललिता व अन्य महिलाओं ने भाग लिया।

किरण भदादा ने बताया कि पिछले 16 दिनों से गणगौर पर्व का कार्यक्रम चल रहा था जो आज पूर्ण हुआ है। सभी औरतों ने सौलह श्रृंगार कर ईसर-पार्वती की सामूहिक रूप से पूजा की है व परिवार की खुशहाली की कामना की है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार