कलेक्टर और चिकित्सा विभाग ने दी स्व. राठौड़ को भावभिनी श्रद्धांजलि

 

   भीलवाडा (हलचल) । महात्मा गांधी अस्पताल  के उप नर्सिंग अधीक्षक महेंद्र सिंह राठौड़ का आज  आकस्मिक निधन  हो  गया । उनके निधन से चिकित्सा विभाग में शोक छा गया। राठौड़  के निधन पर चिकित्सा विभाग ने जिला अस्पताल में श्रद्धांजलि सभा रखी। कलेक्टर आशीष मोदी सहित चिकित्सा विभाग ने स्व. राठौड़ के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किये। 
इस दौरान जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने कहा कि आज दु:ख भरी खबर है कि  जिला अस्पताल के नर्सिंग उप अधीक्षक महेंद्र सिंह राठौड़ का स्र्वगवास हो गया।  उन्हें कोविड भी हुआ था।  इससे जाहिर है कि कोविड से जो खतरा है, वो अभी खत्म नहीं हुआ है।  खतरा अभी बना हुआ है, जो कभी भी रिवॉउंड कर सकता है।  इस खतरे को लेकर जिला कलेक्टर ने आमजन से अपील करते हुये कहा कि आप लोगों ने कोविड का जो दौर देखा है, उसे याद करते हुये    कोविड नियमों को फोलो करें। मोदी ने कहा कि हाथ नियतित रूप से साबुन से धोयें। सेनेटाइजर और मास्क का यूज करें। भीड़ को अवोइड करें। ताकि संक्रमण की दर को कम रखा जा सके और रोका जा सके। मोदी ने जिले के चिकित्सकों व नृर्सिंग स्टॉफ की सर्विस की सराहना की। 
जिला अस्पताल के पीएमओ डॉक्टर अरुण गौड़ ने कहा कि जिला अस्पताल के महत्वपूर्ण चिकित्साकर्मी का आज कोविड से निधन हो गया है। उन्होंने कहा कि कोविड उन लोगों के लिए सबसे खतरनाक जो पहले इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि आमजन किसी भी चीज को हल्के में न लें। सभी लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। आज राठौड़ के निधन से सभी चिकित्सक और नर्सिंग स्टॉफ शोक मग्न है कि हमने एक महत्वपूर्ण साथी को खो दिया है। 
इससे पहले सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दो मिनिट का मौन रखते हुये स्व. राठौड़ को श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर जिला कलेक्टर आशीष मोदी, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. पवन कुमार, पीएमओ डॉ. अरुण गौड़, सीएमएचओ डॉ. मुश्ताक खान, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. घनश्याम चावला, डॉ. दौलत मीणा, मेडिकल ज्यूरिष्ठ डॉ. चेतन,नृसिंग स्टॉफ मुकुट राजसिंह, नरद गोपाल शर्मा, राजकुमार शर्मा, रमेश शर्मा, सभापति राकेश पाठक, महेश सोनी, राकेश ओझा, गौरीशंकर सांखला के साथ ही चिकित्सालय के चिकित्सक, नर्सिंग स्टॉफ, कंप्यूटर ऑपरेटर आदि मौजूद थे। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार