श्री बाबाधाम पर पूर्णाहुति, कन्या पूजन, महाआरती व सुन्दरकाण्ड पाठ पर उमड़ा जन सैलाब

 

भीलवाड़ा (हलचल) । श्री बाबा धाम पर नवरात्रा महोत्सव 22 से 30 मार्च तक बड़े धूमधाम से मनाया गया। श्री बाबाधाम के अध्यक्ष विनीत अग्रवाल के सानिध्य में नवरात्रा महोत्सव में श्री बाबाधाम मंदिर प्रांगण में विशेष विद्युत सजावट व आकर्षक रंग बिरंगे फूलों से मंदिर को सजाया गया। आठ ही दिन माताजी का विशेष श्रृंगार किया गया। नवरात्रा मंे प्रतिदिन सुबह आरती के पश्चात 9.15 बजे से हवन, पूजन किया गया। नवरात्रा के अंतिम दिन सुबह 9.15 बजे से आचार्य पण्डित शिवप्रकाश जी जोशी, पण्डित गोविन्द गौतम, पण्डित गोविन्द तिवाड़ी, पण्डित अनुज तिवाड़ी के द्वारा पूर्णाहूति हुई उसके पश्चात आरती हुई। नवरात्रा में हजारांे भक्तांे ने श्रद्धा व आस्था के साथ हवन, पूजन व महाआरती का लाभ लिया और अपनी-अपनी मनोकामना की मन्नत मांगी।
        इसके बाद नवमी के अवसर पर पूर्णाहुति के बाद कन्याआंे के पैर धोकर, तिलक लगाकर, माँ की चुनरी ओढ़ाकर, उन्हें फल भेंट कर, भोजन प्रसादी स्वयं विनीत अग्रवाल के द्वारा करवायी गयी। कई राजनेता, समाजसेवी व धर्मप्रेमियों ने पधार कर माताजी की प्रसादी ग्रहण की। अष्ट धातु की मूर्ति को देखने सैकड़ों भक्तों में होड़ लग गयी हजारों भक्तों ने श्री अष्ट धातु मूर्ति माताजी का फोटु खींचे। सांयकाल 7.15 बजे महाआरती हुई उसके पश्चात् तलवार का झाड़ा लगाया गया। 
        रामनवमी पर विशेष 30.03.2023 गुरूवार को सांयकाल 8 बजे से 914वां सुन्दरकाण्ड पाठ श्री बाबा धाम पुलिस लाईन के आगे श्याम नगर पर होगा। एक माला में 108 सुन्दरकाण्ड पाठ होते है। यह श्री बाबा धाम का 914वां सुन्दरकाण्ड पाठ है। श्री बाबा धाम के विधान के अनुसार साप्ताहिक सुन्दरकाण्ड पाठ प्रत्येक शनिवार को होता है, जिसमें प्रत्येक भक्तजन को श्री बालाजी की ज्योत लगवाई जायेगी तथा प्रत्येक भक्तजनों को श्री बालाजी की प्रार्थना लगाकर आरती का अवसर प्रदान किया जायेगा। जिसमें सैकड़ों भक्तजनों ने आकर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण कर सकते है। इस विशेष अवसर पर कई नेतागण, समाजसेवी, धर्मप्रेमी आमंत्रित है। श्री बाबा धाम के अध्यक्ष श्री विनीत अग्रवाल ने बताया कि ठीक 10.00 बजे सुन्दरकाण्ड पाठ पूर्ण हो जायेगा, 10.15 बजे आरती होगी।
        माँ के जयकारों के साथ नवरात्रा महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। सैकड़ों भक्तों ने पधारकर धर्म का लाभ लिया।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा