गुरलाँ में सेवरा सजा कर लाती है नन्ही बालिका करतीं हैं गणगौर पुजा

 

 गुरलाँ गुरला बद्री लाल माली धुल्लडी के बाद गणगौर तक प्रतिदिन नन्ही मुन्नी बालिका सजधजकर  सेवरा गणगौर के थानक तक ले जाती है बीच में चौराहे पर नाचती गाती है बच्चीयों द्वारा कलश में आम के पते, फुल आदि से सेवरा सज्जा कर गणगौर व सेवरा के गीत गाती गोरे पुजे गणपति ,ईश्वर पुजे पार्वती ,पार्वती का आला लिला,गौरे को सोने का टीला,टीला दे टपका रानी गीत गाती हुई सेवरा ले जातीं है यह सिलसिला गणगौर तक चलता है बालिका व महिलाओं द्वारा व्रत भी किया जाता है

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार