चेतावनी- धारा 144 के आदेश को वापस नहीं लिया तो आमजन उतरेंगे सड़क पर

 

 भीलवाड़ा संपत माली # BHILWARA NEWS। भारतीय जनता पार्टी विधि प्रकोष्ठ, भीलवाड़ा ने कलेक्टर के नाम एडीएम सिटी ब्रह्मलाल जाट को ज्ञापन देकर धारा 144 के आदेश को अविलंब वापस लेने और शांतिप्रिय त्यौहार मनाने वाले बुजुर्ग व बच्चों पर लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की। 
विधि प्रकोष्ठ की जिला सह संयोजक एडवोकेट वंदना चौखड़ा ने कहा कि सात मार्च को होली पर्व हर वर्ष की भांति इस बार भी सामुहिक रूप से समाज द्वारा स्नेह और शांतिपूर्वक हर्षोल्लास से मनाया जा रहा था। परंपरा के अनुरुप एक समूह होली का त्यौहार मनाते हुये रेलवे स्टेशन से गोल प्याऊ चौराहे की ओर शांतिपूर्ण तरीके से आ रहा था तभी अचानक पुलिस प्रशासन का एक दल पुलिस गाडी लेकर तेजी से समूह के बीच में घुसा, जिससे दुर्घटना घटित हो सकती थी। तभी पुलिस वाहन से अचानक सीआई राजेंद्र गोदारा व सहकर्मी उतरकर समुह पर लाठीचार्ज किया, जिससे शांतिपूर्ण त्यौहार मनाने वाले बुजुर्ग एवं बच्चों पर अमानवीय तरीके से लाठीचार्ज किया गया, जिससे समाज में भय का वातावरण बन गया। सनातन धर्म में आक्रोश व्याप्त है। चौखड़ा ने कहा कि प्रशासन भेदभावपूर्वक रवैया अपनाते हुये हर बार हिंदु समाज के त्यौहारों पर धारा 144 लगा दी जाती है ताकि हिंदु समाज अपने त्यौहार हर्षोल्लास एवं शांतिपूर्वक तरीके से नहीं मना सके। प्रशासन द्वारा धारा 144 की आड में शांतिपूर्ण माहौल को खराब किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि होली, धुलंडी, शीतला पूजन, दशामाता पूजन और रंगोत्सव आदि त्यौहारों पर धारा 144 लागाया जाना धार्मिक स्वतंत्रता के मूलभूत अधिकारों का हनन है, जिसे अविलंब वापस लिया जाये। चौखड़ा ने चेतावनी दी कि अगर उक्त आदेश को वापस नहीं लिया गया तो आमजन अपने अधिकारों की रक्षा के लिए सड़कों पर उतरेंगे, जिसका जिम्मेदार प्रशासन होगा। साथ ही ज्ञापन में लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई करने की मांग भी की है।  ज्ञापन देने वालों में विधि प्रकोष्ठ जिला संयोजक हेमेंद्रसिंह राणावत, जिला सह संयोजक अंबालाल कुमावत, रामपाल शर्मा, कौशल साहू सहित कई अधिवक्ता मौजूद थे। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना