आरोप- आरएसएस के कार्यक्रम से निकले कार्यकर्ताओं पर भांजी लाठियां, कई चोटिल, पुलिस ने किया लाठीचार्ज से इनकार


  भीलवाड़ा हलचल। हर वर्ष की भांति इस साल भी धूलंडी के मौके पर होली स्नेहमिलन कार्यक्रम से निकले कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने गोल प्याऊ चौराहा क्षेत्र में घेरकर लाठियां भांजी, जिससे कई लोग चोटिल हो गये। इनमें नाबालिग बच्चे भी शामिल हैं। यह आरोप हिंदू जागरण मंच के प्रांत सह सयोजक ने लगाये हैं। वहीं दूसरी और कोतवाल पुष्पा कासौटिया ने इन आरोपों को खारिज किया है। 
हिंदू जागरण मंच के प्रांत सह संयोजक सुभाष बाहेती ने पत्रकारों को बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ता शांतिपूर्ण ढंग से धूलंडी के मौके पर होली स्नेह मिलन का कार्यक्रम करते हैं। इसके तहत वे भजन गाते हुये भजन मंडली के रूप में निकलते हैं। यह   बरसों से यह निकल रहे है। आज भी कार्यकर्ता इसी तरह से एक जगह एकत्रित होकर भजन मंडली के साथ भजन गाते हुये  रास्ते में घूमते हुये निकल रहे थे। तभी अचानक पुलिस-प्रशासन उनके पीछे दौड़ता है। लाठी चार्ज करता है। छोटे-छोटे दस-बारह साल के बच्चों को भी पीटता है। जिससे 20 कार्यकर्ता चोटिल हो गये।  बाहेती ने कहा कि वे, हिंदू त्योंहारों पर प्रशासन द्वारा लगाई जाने वाली धारा 144 की निंदा करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस यह तानाशाही रवैया नेता के बहकावे में आकर अपना रही है। 
उधर, कोतवाल पुष्पा कासौटिया ने कहा किदोपहर करीब साढ़े बारह बजे सभी एसएचओ ब्रिफिंग के लिए पुलिस कंट्रोल रूम जा रहे थे, तभी रास्ते में 50-60 बाइक पर दो-दो-तीन-तीन लोग बैठे थे। पुलिस ने गाडिय़ां लगाकर उन्हें रोका ताकि वे आगे जाकर कहीं माहौल खराब नहीं करें। उन्हें समझाने  का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। मौतबिरों को थाने बुलाकर समझाइश कर उन्हें वहां से रवाना कर दिया। कासौटिया ने लाठी चार्ज से इनकार किया है। 

 बालक बोला- किडनी का ऑपरेशन हुआ था, उसके पास मारी  लाठी
लाठी चार्ज में चोटिल नाबालिग लक्ष ने कहा कि वह तो पापा के साथ बाइक पर पीछे बैठकर जा रहा था, तभी उसे लाठी मार दी गई। उसे लाठी, वहां लगी, जहां उसका पहले किडनी का ऑपरेशन हो रखा था। किशोर ने कहा कि उनका कोई दोष नहीं, वे तो बाइक से गुजर रहे थे। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना